Saturday, 25 May 2019

जो आज है वो कल नहीं..।


“जो आज है वो कल नहीं”


जो आज है वो कल नहीं
जो पल-पल है वो हरपल नहीं

जो आज है वो कल नहीं

समंदर है ये जज़्बात हमारे
पर तुम्हारे क़द के जितना
इसमें तल नहीं..

जो आज है वो कल नहीं

मोहब्बत करते हो तो इज़हार करो
एक तरफ़ा ही सही किसी से प्यार करो

किसी को मरने दो तुम पर
ओर किसी के ऊपर तुम मरो

जो आज का नज़ारा है
वो कल को ओझल सही..

जो आज है वो कल नहीं

तुम मिलोगे आज जिससे
वो तुम्हारी ज़िंदगी से एक दिन
रुख़सत् हो जाएगा

तुम इंतज़ार करोगे कल तक का
ओर वो शख़्स कहीं खो जाएगा

समय होगा तुम्हारे पास बहुत सारा
पर
शायद उसके पास कम समय का
कोई हल नहीं..

जो आज है वो कल नहीं

बहते रहो हमेशा नदियों की तरह
वो तालाब मत बनो जिसमें कोई
हलचल नहीं..

क्यूँ की मेरे दोस्त
मेरे हमदम

जो आज है वो कल नहीं ।।
जो आज है वो कल नहीं ।।


अप्रतिम और अप्रकाशित                                                                   By PRASHANT GURJAR



you can also follow me on -

Instagram - @prashant gurjar
Facebook - #blank voice
Youtube - Prashant gurjar
             (Blank voice)

No comments:

Post a comment