Posts

Showing posts from April, 2019

अभी कल ही की तो बात है.....।

“अभी कल ही की तो बात है” अभी कल ही की तो बात है जैसे कुछ बदला ही नहीं सुबह हुई फिर से और फिर से अंधेरी रात है बस अभी कल ही की तो बात है सब साथ हुआ करते थे थोड़ी सी मोहब्बत और कई जिगरी यार हुआ करते थे आज सिर्फ़ और सिर्फ़ जैसे जो कल था मेरे पास उसकी मीठी याद है अभी कल ही की तो बात है तुम सुनो तो सही कल वो मेरे साथ थी आसमां साफ़ था और वो बड़ी हसीन रात थी उसने नदानी समझा मेरी हर एक बात को और मैं मज़ाक़ में कहता चला गया अपने दिल के हर एक जज़्बात को ना जाने उसने क्या सोचा होगा अपनी दुनिया में लौटकर याद करके ख़ुश हुई होगी या ख़ूब हँसी होगी अपनी साँस रोक कर क्या उसने मेरे दिल का हाल ख़ुद को समझाया होगा या उसने सिर्फ़ मुझे भुलकर अपने दिल को ओर उलझाया होगा मुझे पता है मुझे ग़लत समझती है या यूँ कहूँ की समझती ही नहीं सब कुछ पता है उसे शायद या फिर जानबूझकर वो हर चीज़ से अज्ञात है जैसे अभी कल ही की बात है मैं सोचता हूँ की वो क्या सोचती है मेरे बारे में जब वो जा रही थी तो देखा मैंने उसकी आँखो में आ

MUJHE CHUP REHNA PASAND HAI

"mujhe chup rehna pasand hai" mujhe chup rehna pasan hai khamosh rehkar apne dil ki har baat kehna pasand hai mujhe chup rehna pasand hai..... ke main kuch keh saku main is layak nahi maut to tay hai meri par main kisi ki zindgi banane me sahayk nahi vyarth hai mera jeena aur vyarth lagti sabki meri har ek baat hai bs isliye mujhe kuch naa kehna pasand hai mujhe chup rehna pasand hai..... ghamand kaho ise ya kahlo ise kamzori meri main sabki sab kuch sunta hu kyu ki ye hai majboori meri samarth nahi hu main ki kisi ko kuch bol saku itna bada bhi main nahi ki jazbaton ko noton me tol saku mujhe band kamaro me itihas likhna pasand hai mujhe chup rehna pasand hai..... main chup hu fir bhi meri baat har ek tak pahuch jaati hai maine suna tha ki deewaron ke bhi kaan hote hai par naa jane mere dil ki deeware kaan kaha se laati hai main to chup rehta hu magar meri kalam chinkh-chinkh kar gaati hai meri kalam ka chinkhna aur is dniya